असम पर निबन्ध – Essay on Assam in Hindi

Essay on Assam in Hindi

इस पोस्ट में असम पर निबन्ध (Essay on Assam in Hindi) के बारे में बात करेंगे। असम पूर्वोत्तर का प्रवेश द्वार है, एक राज्य जिसे इसकी लुभावनी दर्शनीय सुंदरता, दुर्लभ वनस्पति तथा जीवों, हरी-भरी पहाड़ियों, व्यापक रोलिंग मैदान, विशाल जलमार्गों और मेलों तथा त्योहारों की भूमि के लिए जाना जाता है। पुरातन कथाओं में इसे प्राग्ज्योतिशा तथा कामरूप की राजधानी के रूप में जाना जाता था जिसकी राजधानी प्राग्ज्योतिशपुरा थी जो गुवाहाटी में अथवा इसके नजदीक स्थित थी।

इसमें मूल रूप से आधुनिक असम के साथ-साथ आधुनिक बंगाल और आधुनिक बांग्लादेश के कुछ हिस्से शामिल थे। असम नाम का उद्गम बाद में हुआ है। यह अहोम लोगों द्वारा असम को जीत लिए जाने के बाद प्रयोग में आया। यह भी सुना गया है कि “असम” नाम “असम” शब्द से लिया गया है जिसका अर्थ है असमान।

असम केंद्रीय भारत से बांग्लादेश द्वारा लगभग अलग होता है। इसकी पूर्वी सीमा पर नागालैंड, मणिपुर और म्यानमार हैं, पश्चिम में पश्चिम बंगाल है, उत्तर में भूटान और अरुणाचल प्रदेश और दक्षिण में मेघालय, बांग्लादेश, त्रिपुरा और मिजोरम है। इसके अधिकतर हिस्से में विशाल नदी ब्रह्मपुत्र बहती है, जो विश्व की सबसे महान नदियों में से एक है (लंबाई: 2900 किमी.), जिसमें न केवल चावल उगाने के लिए एक उपजाऊ जलोढ़ मैदान है बल्कि यह चाय के लिए भी प्रसिद्ध है। यहाँ भूकंप आम बात हैं।

असम पर निबन्ध – Essay on Assam in Hindi

पौराणिक काल का प्राग्ज्योतिषपुर आज का असम प्रदेश है . विशाल भारतवर्ष के प्रांगण में उत्तर पूर्वी छोर पर ‘पूर्व की ज्योति’ के नाम से विख्यात यहप्रदेश वन प्रदेशों, नदियों, झरनों और सुन्दर पर्वतमालाओं से भरा है . इसके उत्तर में अरुणाचल प्रदेश और भूटान, दक्षिण में मिजोरम, पश्चिम में पश्चिम बंगाल तथा बला देश और पूरब में मणिपुर, नागालैंड तथा म्यांमार (बर्मा) स्थित हैं . इसकी राजधानी गुवाहाटी (दिसपुर) है .

इतिहास

हमारा असम पौराणिक काल से विचित्रताओं और जादू-टोने का देश कहा जाता रहा है . अहोमों के यहाँ आने से पहले महाभारत काल से नरकासुर के अत्याचारों से इस प्रदेश को मुक्त करने के लिए द्वारका के राजा श्रीकृष्ण यहाँ पधारे थे .

उनके पोते अनिरुद्ध को राजा बाण द्वारा बन्दी बना लिए जाने पर श्रीकृष्ण और बाण के बीच युद्ध का भी वर्णन मिलता है . इसके पूर्व राजा भगदत्त ने महाभारत के युद्ध में पाण्डवों की मदद भी की थी . 12वीं सदी से लेकर 19वीं शताब्दी तक इस प्रदेश पर अहोमवंशी शासकों का अच्छा शासन रहा .

इन शासकों में प्रथम राजा चुकाफा के पश्चात् गदाधर सिंह और शिवसिंह की असम के इतिहास में विशेष ख्याति है . अंग्रेजी शासन के दौरान आजादी की लड़ाई में मणिराम देवान, पियालि बरुवा, तरुणराम फुकन, गोपीनाथ बरदलै, कनकलता आदि देशभक्तों ने असम की भूमि पर अपने प्राणों का बलिदान देकर इसमें एकता, आजादी और आपसी प्रेम का बीज बोने का प्रयत्न किया .

आज का असम

कुल 78,438 वर्ग किलोमीटर भूमि वाला आज का यह असम 26 जिलों में बँटा हुआ है . निचले असम और ऊपरी असम नाम से यह दो मुख्य भागों में विभक्त है . इस राजनैतिक विभाजन (Political division) के बावजूद अनुपम प्राकृतिकसौंदर्य वाला सम्पूर्ण असम सभ्यता और संस्कृति (Civilisation and culture) की दृष्टि से एक समान है .

13वीं शताब्दी में जो धर्म की ज्योति श्रीमंत शंकरदेव तथा उनके शिष्यों ने जलायी थी वह आज भी यहाँ रहने वाले भिन्न जाति-सम्प्रदायों केलोगों केमन में ‘आमि अखमीया नहओं दुखीया’ की प्रेरणा के रूप में जल रही है . बिहू के रूप में हमारे असम की यह एकता और सुन्दरता और भी निखर उठती है .

उपसंहार

हमारा प्यारा असम केवल अपने नाम से ही असमान है किन्तु वास्तव में इस सुन्दर प्रदेश में, कामाख्या, भुवनेश्वरी आदि जैसी देवियों की गोद में जितनी समानता है, उतनी अन्य स्थानों पर होना अभी शेष है .

उम्मीद करता हु आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह पोस्ट असम पर निबन्ध (Essay on Assam in Hindi) पढ़ के पसंद आया होगा. अगर आपको हमारे द्वारा लिखा गया पोस्ट पसंद आता है तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले। अगर आप कुछ पूछना या जानना चाहते है, तो आप हमारे फेसबुक पेज पर जाकर अपना सन्देश भेज सकते है. हम आपके प्रश्न का उत्तर जल्द से जल्द देने का प्रयास करेंगे। इस पोस्ट को पढने के लिए आपका धन्यवाद!