UNESCO क्या है? फुल फॉर्म, और इसके मालिक कौन है? पूरी जानकारी

Spread the love

यूनेस्को का पूरा नाम यूनाइटेड नेशन एजुकेशन साइंटिफिक एंड कल्चरल ऑर्गेनाइजेशन होता है यूनेस्को संयुक्त राष्ट्र संघ का एक हिस्सा है जिसका कार्य शिक्षा संस्कृति प्रकृति तथा समाज विज्ञान के माध्यम से दुनिया में शांति बनाए रखना है सन 1942 के समय युद्ध के कारण दुनिया दो हिस्सों में बढ़ गई थी तभी कुछ देश के शिक्षा मंत्रियों ने यूनाइटेड किंगडम में एक मीटिंग किया जिसका नाम कॉन्फ्रेंस आफ एलाइड मिनिस्टर आफ एजुकेशन खा गया.

UNESCO क्या है? (What is UNESCO in Hindi)

इसका मकसद युद्ध से होने वाली तबाही को रोकना था जिसके लिए एक ऐसी संगठन का निर्माण करना था जिससे दुनिया में अमन और शांति बनाए रखी जा सके इसलिए इस मीटिंग में ऐसे संगठन को बनाने का प्रस्ताव पास किया गया जो शिक्षा और संस्कृति कार्य में काम करें यह विचार बहुत से देशों को पसंद आया और उन्होंने मिलकर या संगठन यूनेस्को में 193 देश शामिल  है और ग्यारह सहयोगी देश और दो पर्यवेक्षक देश भी शामिल है यूनेस्को संयुक्त राष्ट्र संघ का एक हिस्सा है इसका मेन मकसद दुनिया में वैज्ञानिक सोच शिक्षा और शांति की स्थापना करना है यह संयुक्त राष्ट्र का एक घटक निकाय है,

इसका गठन 4 नवंबर 1946 को हुआ था यूनेस्को के तत्वाधान में कुल 40 अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाते हैं इनमें से कुछ प्रमुख नाम 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस 5 अक्टूबर को विश्व शिक्षक दिवस और 18 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है हर 2 साल में इसकी एक सामान्य सभा होती है जिसमें यूनेस्को के सभी सदस्य देश और और पर्यवेक्षक देश शामिल होते हैं,

किसी भी विषय पर वोटिंग के लिए सभी देशों के पास 118 होते हैं यूनुस को दुनिया भर के अलग-अलग देशों के धरोहरों को विश्व धरोहर शामिल करता है भारत की कुल 35 जगह को विश्व धरोहर स्थल के रूप में शामिल किया गया है,

यूनेस्को का पहला विश्व धरोहर स्थल द डोर का आइसलैंड है यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों की सूची में देखें तो सबसे ज्यादा 47 स्थल इटली में है दूसरे विश्व युद्ध के बाद यूनेस्को में सदस्य देश जुड़ते गए 1951 में जापान और 1953 में जर्मनी इस के सदस्य बन गए स्पेनको  53 में सदस्यता मिली  1954 में यूएसएसआर भी यूनेस्को का हिस्सा बन गया 1960 में अफ्रीका के 19 स्टेट में भी सदस्यता हासिल की इसका मुख्य कार्य विश्व की धरोहरों को बचाना उनका प्रचार प्रसार करना है।


Spread the love