तहसीलदार कैसे बने? योग्यता, सैलरी और तयारी की पूरी जानकारी

Spread the love

तहसील दार क्या होता है? (What is Tehsil Dar in Hindi)

भारत देश के हर राज्य के जिले में एक व्यक्ति जो मुख्य रूप से उस जिले का प्रभारी होता है ,उस जिले के प्रमुख कार्यों के लिए चुना जाता है जैसे भूमि से सम्बंधित कार्य या उस जिले के जितने भी मसलों जैसे आर्थिक सामाजिक कार्यों को ठीक प्रकार से करवाने तथा उन पर नज़र रखना उसंकी हर गतिविधियों के अनुसार कार्य पर ध्यान देना एक तहसील दार का मुख्य कार्य होता है,

यही नहीं उस जिले के अधिकारियों से मीटिंग कर वहा के सभी कार्यों के बारे में चर्चा करना तथा सभी कार्यों की सूचनाएं अधिकारियों तक तक देने का कार्य भी तहसील दार का होता है तथा उस जिले के सभी मे आने वाले सभी ग्राम सभा को आयोजित करना था वह की कृषि विकास तथा कृषि मे होने वाली सभी परेशानियों को सुलझाने तथा उच्च अधिकारियों तक हर प्रकार की समस्या की सूचना दे कर उसे हल करने की जिम्मेदारी भी तहसील दार की होती है ।

तहसील दार की भूमिका निभाना अत्यन्त जटिल है , इसके लिए व्यक्ति को राजनीतिक तथा सामाजिक स्तर पर अपनी बौद्धिक क्षमता का विकाश करना आवश्यक माना गया है , तहसील दार हमारे राज्य के हर जिले की एक ऐसे कड़ी है जो उस जिले की उन्नती के लिए अहम मानी जाती है तरह जिले में होने वाले सभी प्रकार की गतिविधियों पर नजर रखती है जिसे जिले में होने वाले गलत कामो पर रोक लगे तथा उस जिले की उन्नति पर पूर्ण रूप से ध्यान देना एक तहसील दार की जिम्मेदारी होती है.

तहसीलदार कैसे बने?  Tahsildar Kaise Bane

तहसील दार कैसे बनने के लिए किस प्रकार की तैयारियां की जाती है (What kind of preparations are made to become Tehsil Dar)

भारत में देखा जाए तो नौकरियों को लेकर युवाओं में काफी प्रतिस्पर्धा का माहोल बना हुआ है , ऐसे बेरोजगारी के समय में यदि कोई व्यक्ति सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करता है तो यकीनन ये उसके लिए एक चुनौतपूर्ण कार्य होगा , तथा ऐसे में तहसील दार की नौकरी के लिए इच्छुक आवेदक को ये चाहिए की वह इस नौकरी की सभी बारीकियों को समझे जाने जैसे वह उस तहसील दार के पद पे कार्य करने के लिए चयनित हो सके ।

इसलिए इस पद से जुड़ी सारी जानकारियां इच्छुक अभयर्थी को यह दी जाएगी जिसे आप आवेदन से पहले इसे ठीक प्रकार से समझ के आवेदन करे तथा आपको इस पद की तैयारियां करने के कोई दुविधा ना आए ।

तो आइए हम बताते है आपको की तहसील दार बनने के लिए किन क्या करना पड़ता है , तथा किस किस बातो का विषय कर ध्यान रखना आवश्यक है , जिसे जान कर आप इस पद के लिए बिना किसी उलझन के आवेदन कर सकेंगे तथा इसकी पूर्ण जानकारी होने के बाद आप इसकी तयारी भी आसानी से कर सकेंगे । सर्वप्रथम बात की जाए तो तहसील दार बनने के लिए ये जानना आवश्यक है कि अभ्यर्थी की डिग्री क्या होनी चाहिए और इसके लिए हमें किस तरह से तैयारियां करनी चाहिए ।

तहसील दार बनने के लिए शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification to become Tehsil Dar)

  • तहसील दार बनने के लिए आवेदक को किसी विश्ववद्यालय से graduate कि परीक्षा पास करना अनिवार्य माना गया है
  • दूसरा आवेदक के रिपोर्ट कार्ड में कोई त्रुटि या किसी दोष का मिलना इस पद के लिए आवेदन करने में रुकावट बन सकता है ।

तहसील दार बनने की निर्धारित उम्र क्या होनी चाहिए (What should be the prescribed age to become a Tehsil Dar)

तहसील दार के लिए को लोग आवेदन करते है उनकी उम्र सीमा वर्ग के हिसाब से बाटी गई है , जो निम्नलिखित रूप से अंकित है

  • समान्य वर्ग के लिए तहसील दार बनने की उम्र सीमा 18 वर्ष से 40 वर्ष निर्धारित की गई है ।
  • अनुशुचित / जनजाति के लिए उम्र सीमा 18 वर्ष से 43 वर्ष तक रखी गई है तथा इसमें तीन साल की छूट भी दी गई है ।
  • शारीरिक रूप से अपंग व्यक्ति के लिए इस पद के लिए दी साल की छूट तथा 18 वर्ष से 42 वर्ष तक कि उम्र निर्धारित की गई है ।

तहसील दार बनने के लिए होने वाली परीक्षाएं (Exams to be held for Tehsil Dar)

तहसील दार बनने के लिए तीन तरह से परीक्षाएं ली जाती है तथा इन तीनों परिक्षायो को काफी सुझ बुझ से पास करना होता है , यदि तीनों परीक्षाओं को सही तरीके से पास करने पर इस पद पर आसानी से नियुक्ति हो सकती है , परंतु अभियर्थी को इस पद के लिए आवेदन करने से पहले इसके बारे में पूर्ण रूप से सारी जानकारी ले लेनी चाहिए जिसे आवेदक को परीक्षा में बठने मे किसे तरह को व्यथा का सामना ना करना पड़े ।

आइए बताते है कि तहसील दार की वह तीन परीक्षाएं कौनसी है ओर इनके क्या नाम है ओर इसमें किस तरह के प्रश्नों को पूछा जाता है ।

1 स्क्रीनिंग टेस्ट (screening tests)

तहसील दार के पद पर नियुक्ति जे लिए सर्वप्रथम एक परीक्षा होती है जिसका नाम स्क्रीनिंग टेस्ट होता है , यह दो घंटे की परीक्षा होती है इस परीक्षा मे 150 बहुविकल्पीय प्रश्न होते है जो केवल समान्य ज्ञान पर आधारित होते है ।

2 मुख्य परीक्षा (Main exam)

पिछली परीक्षा को पास करने के बाद दूसरी परीक्षा ली जाती है जिसमे चार पेपर होते है , तथा चारों पेपर को पास करना अनिवार्य होता है , तथा इस परीक्षा को पास करने के बाद आवेदक की फाइनल रिपोर्ट जारी की जाती है ।

3 पर्सनल इंटरव्यू (Personal interview)

मुख्य परीक्षा पास करने के बाद आवेदक को इस इंटरव्यू में बुलाया जाता है तथा इस लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद है फाइनल मैरिट घोषित होती है जिसके बाद तहसील दार के पद के लिए आवेदक को इंटरव्यू में बुला कर उनका चयन उनकी योग्यता के हिसाब से किया जाता है ।
इस प्रकार से हमने आपको अवगत करवाया की तहसील दार बनने या उसके चयन के लिए किस तरह की तैयारियां की जाती है , किन तरह से इनकी परीक्षा होती है , तथा किन किन चिजो का विशेष ध्यान देना आवश्यक है । आपकी सुविधा के अनुसार तथा इस पद के लिए आवेदन करने से पहले पूर्ण रूप से इसके बारे में सभी बारीकियों जान सके और इस पद के आवेदन मे आपको किसी प्रकार की रुकावट के सामना ना करना पड़े ।


Spread the love
error: Content is protected !!