Swami Vivekananda Quotes, Thoughts & Biography in Hindi

Swami Vivekananda Quotes, Thoughts & Biography in Hindi

Swami Vivekanada Biography in Hindi

हमारा देश भारत सदियों से महापुरुषों की जन्मभूमि और कर्मभूमि रहा है । पृथ्वी के इस पावन भू-भाग में ऐसे कई मनीषी पैदा हुए जिन्होंने अपने चिंतन और दर्शन से न केवल भारत को बल्कि दुनिया को भी गौरवान्वित किया, ऐसे ही महापुरुषों में से एक थे Swami Vivekananda.

स्वामी विवेकानन्द भारतीय दर्शन, संस्कृति, धर्म, चिंतन और देश प्रेम की जीवंत प्रतिमूर्ति थे । वैश्विक भाईचारे का प्रबल समर्थन करते हुए उन्होंने दुनियाभर को भारतीय संस्कृति और दर्शन के मूल आधार अध्यात्म और मानव मूल्यों से परिचय करवाया ।

Swami Vivekananda के दर्शन और चिंतन में समाहित अध्यात्म, धर्म, ऊर्जा, समाज, संस्कृति, देश प्रेम और विश्व बंधुत्व में जिस प्रकार का मजबूत समन्वय रहा है, ऐसा उदाहरण विश्व इतिहास के संभवतः किसी व्यक्तित्व में देखने को नहीं मिलता है ।

इन्हीं सब गुणों और फिर उन सभी गुणों के बीच समन्वय के कारण विवेकानन्द के अंतर्मन में जो ऊर्जा प्रस्फुटित हुई, वही उनके विराट व्यक्तित्व का गवाह बना ।

Physicist Stephen Hawking Quotes, Biography & Death Date in Hindi

Bhagat Singh Quotes, Biography & History Information in Hindi

Jawaharlal Nehru Biography, History Information & Quotes in Hindi

स्वामी विवेकानन्द का प्रारंभिक जीवन (Early life of Swami Vivekananda)

स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में हुआ था, बचपन में उनका नाम नरेन्द्र रखा गया । उनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्त और माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था । विश्वनाथ दत्त अपने समय के कोलकाता हाई कोर्ट के एक सफल और नामी वकील थे, वह अंग्रेजी और फारसी के ज्ञाता भी थे ।

माता भुवनेश्वरी देवी धार्मिक प्रवृति की और बुद्धिमान महिला थीं, उन्हें महाभारत और रामायण जैसे धार्मिक ग्रंथों में पारंगत हासिल था । वह अंग्रेजी की भी अच्छी ज्ञाता थीं । ऐसे में स्वाभाविक था कि बालक नरेन्द्र को जहाँ घर में ही पाश्चात्य अंग्रेजी भाषा का प्रारंभिक ज्ञान मिला वहीँ उन्हें अपनी माँ से हिन्दू धर्म और संस्कृति को भी करीब से समझने का मौका मिला ।

माँ की छत्रछाया में बालक Narendra पर अध्यात्म का इतना गहरा प्रभाव पड़ा कि वह घर में ही ध्यान में तल्लीन हो जाया करते थे । कहा जाता है कि एक दिन घर में ही ध्यान में वह इतने तल्लीन हो गए थे कि घर वालों ने कमरे का दरवाजा तोड़कर जब उन्हें जोर-जोर से हिलाया तब कहीं जाकर उनका ध्यान टूटा ।

आगे जाकर यही बालक दुनियाभर में ध्यान, अध्यात्म, राष्ट्रवाद, हिन्दू धर्म और संस्कृति का वाहक बना और स्वामी विवेकानन्द के नाम से मशहूर हुआ ।

छह वर्ष की अवस्था में बालक नरेन्द्र का दाखिला स्कूल में कराया गया । बात 1877 की है जब वह तीसरी कक्षा में पढ़ रहे थे । उनके परिवार को किसी कारणवश अचानक रायपुर जाना पड़ा, परिस्थितिवश बालक नरेन्द्र की पढ़ाई बीच में ही बाधित हो गई । फिर दो वर्ष बाद उनका परिवार कोलकाता वापस लौटा, परन्तु ईश्वर की कृपा और बालक नरेन्द्र के कुशाग्र बुद्धि को देखते हुए स्कूल ने उन्हें फिर से दाखिला दे दिया । बालक नरेन्द्र ने भी समय न गंवाते हुए पढ़ाई में इतना ध्यान लगाया कि उन्होंने तीन वर्ष का पाठ्यक्रम एक वर्ष में ही पूरा कर लिया ।

Bill Gates Quotes, Autobiography, Life Story & Net worth in Hindi

100+ Adolf Hitler Quotes For Facebook & Whatsapp in Hindi

100+ APJ Abdul Kalam Motivational Quotes, Famous Quotes for Facebook & Whatsapp

ईश्वर और पढ़ाई के प्रति समर्पण का ही परिणाम था कि कॉलेज में प्रवेश के लिए हुए परीक्षा में नरेन्द्र विशेष योग्यता के साथ उतीर्ण हुए और उन्हें कोलकाता के प्रसिद्ध प्रेसीडेंसी कॉलेज में दाखिला मिला । उस समय प्रेसीडेंसी कॉलेज के प्रधानाचार्य डब्लू. डब्लू. हेस्टी थे वे युवा नरेन्द्र की प्रतिभा से काफी प्रभावित थे, उन्होंने एक बार कहा भी था ‘मैं कई देशों में गया हूं और मेरे कई प्रिय विद्यार्थी भी हैं परन्तु मैंने नरेन्द्र जैसा प्रतिभावान और संभावनाओं से भरा शिष्य नहीं देखा’ ।

विद्यार्थी जीवन में नरेन्द्र जॉन स्टुअर्ट, हर्बर्ट स्पेंसर और ह्यूम के विचारों से प्रभावित थे । उनके अध्ययन से युवा नरेन्द्र के विचारों में काफी बड़ा परिवर्तन आया । इसी दौरान उनका झुकाव ब्रह्म समाज के प्रति हुआ, सत्य जानने की तीव्र आकांक्षा के कारण वे ब्रह्म समाज के नेता महर्षि देवेन्द्र नाथ ठाकुर के संपर्क में आए ।

एक दिन युवा नरेन्द्र ने देवेन्द्र नाथ ठाकुर से पूछा, ‘क्या आपने ईश्वर को देखा है?’ नरेन्द्र के इस सवाल से वे अचंभित हो गए । युवा नरेन्द्र की जिज्ञासा को शांत करने के लिए उन्होंने नरेन्द्र को रामकृष्ण परमहंस के पास जाने की सलाह दी, Ramakrishna Paramahamsa उस समय कोलकाता के दक्षिणेश्वर के काली मंदिर में पुजारी थे ।

Chandra Shekhar Azad Information, Quotes & Biography in Hindi

Steve Jobs Quotes, Biography & life Information

Mahatma Gandhi Biography, History & Quotes in Hindi

हालाँकि नरेन्द्र अपने कॉलेज के प्रधानाचार्य विलियम हेस्टी से रामकृष्ण परमहंस के बारे में सुन चुके थे परन्तु उस समय उनका ध्यान रामकृष्ण परमहंस के प्रति आकर्षित नहीं हुआ था, अब जब देवेन्द्र नाथ ठाकुर से जब उन्होंने उनका उल्लेख सुना तो उन्होंने परमहंस से मिलने का निश्चय किया और उनके पास पहुंच गए ।

यहां भी उन्होंने परमहंस से एक ही सवाल किया कि क्या उन्होंने ईश्वर को देखा है? युवा नरेन्द्र के सवाल का जवाब देते हुए रामकृष्ण परमहंस ने कहा, ‘हाँ देखा है और बात भी किया है, ठीक वैसे ही जैसे मैं तुम्हें देख रहा हूं और तुझसे बात कर रहा हूं’ ।

रामकृष्ण परमहंस के विचारों से युवा नरेन्द्र काफी प्रभावित हुए, वे अब बराबर दक्षिणेश्वर मंदिर जाने लगे और रामकृष्ण परमहंस के साथ उनका रिश्ता मजबूत होता चला गया ।

स्वामी विवेकानन्द का आध्यात्मिक सफ़र (Spiritual journey of Swami Vivekananda)

वर्ष 1884 में नरेन्द्र के पिता की मृत्यु हो गई, घर में आर्थिक संकट के बादल छा गए । पिता की मृत्यु के पश्चात उन्होंने बीए की परीक्षा उत्तीर्ण की और कानून की पढ़ाई करने लगे ।

उस समय उनकी गरीबी का आलम यह था कि वे फटे-पुराने कपड़े पहनकर और बिना जूते के कॉलेज जाते थे परन्तु इस दरिद्रता में भी उनका ईश्वर और अध्यात्म के प्रति आकर्षण कम नहीं हुआ, नरेन्द्र और रामकृष्ण परमहंस के बीच निकटता बढती ही गई ।

850+ Political Science GK(General Knowledge), Notes, Quiz & Question Answer

1400+Science Gk, Quiz, Questions & Answer, Objective for competitive Exams in Hindi

Top 550 Math GK(General Knowledge),Competitive Exams, Formula, Quiz, Questions & Answer

वर्ष 1885 में रामकृष्ण परमहंस कैंसर से पीड़ित हो गए और अगले ही वर्ष वे स्वर्ग सिधार गए, उसके बाद नरेन्द्र ने वराहनगर में रामकृष्ण संघ की स्थापना की । हालाँकि बाद में इसका नाम रामकृष्ण मठ कर दिया गया ।

रामकृष्ण संघ की स्थापना के कुछ दिनों उपरांत युवा नरेन्द्र ने विरजा होम संस्कार कर ब्रह्मचर्य और त्याग का व्रत लिया और वे नरेन्द्र से स्वामी विवेकानन्द हो गए । वर्ष 1888 तक वे वराहनगर में ही रहे और उसके बाद वे भारत भ्रमण पर निकल पड़े ।

वाराणसी, अयोध्या, लखनऊ, आगरा, वृन्दावन और हाथरस होते हुए वे हिमालय की ओर निकल पड़े । हाथरस रेलवे स्टेशन पर ही उन्होंने स्टेशन मास्टर शरतचंद्र गुप्त को दीक्षा दी और उन्हें अपना पहला शिष्य बनाते हुए उन्हें सदानंद नाम दिया ।

वर्ष 1890 में स्वामी जी वापस वराहनगर पहुंचे । फ़रवरी 1891 में स्वामी जी एकांगी हो गए और दो वर्ष तक परिव्राजक के रूप में भ्रमण करते रहे । इस भ्रमण के दौरान वह राजस्थान के राजपूत राजघराने के संपर्क में आए, अलवर और खेतड़ी के महाराज ने उनसे दीक्षा ली । राजस्थान की यात्रा के बाद वे मुंबई होते हुए दक्षिण भारत की यात्रा पर निकल गए ।

23 दिसम्बर 1892 को स्वामी जी कन्याकुमारी पहुंचे, वहां वह तीन दिनों तक सुदीर्घ और गंभीर समाधि में रहे । वहां से वापस लौटकर वे राजस्थान के आबू रोड में निवास करने वाले अपने गुरुभाई स्वामी ब्रह्मानंद और स्वामी तुर्यानंद से मिले ।

Hindi Vyakaran or Hindi Grammar | महत्वपूर्ण जानकारी

Child Development and Pedagogy | Hindi Book | Bal Vikas | Teacher Exam

General Knowledge Questions and answers in Hindi | General Knowledge India

इस मुलाकात में उन्होंने अपनी वेदना को स्पष्ट करते हुए कहा था, ‘मैंने पूरे भारत का भ्रमण किया है । देश की दरिद्रता और लोगों के दुखों को देखकर मैं बहुत व्यथित हूं, अब मैं इनकी मुक्ति के लिए अमेरिका जा रहा हूं’ । सर्वविदित है कि स्वामी जी की इस अमेरिका यात्रा के बाद दुनिया भर में भारत के प्रति सोच और विचार में कितना बड़ा क्रांतिकारी परिवर्तन आया था ।

स्वामी जी की अमेरिका यात्रा और शिकागो भाषण (Swami Vivekananda’s speech in Chicago)

विश्व धर्म संसद में शामिल होने के लिए 31 मई 1893 को स्वामी विवेकानन्द मुंबई से अमेरिका के लिए रवाना हुए । वह कठिन समुद्री यात्रा करते हुए श्रीलंका, पनामा, सिंगापुर, हांगकांग, कैंटन, नागाशाकी, ओसाका, क्योटो, टोक्यो, योकोहामा होते हुए जुलाई के अंत में शिकागो पहुंचे ।

वहां जाकर उन्हें पता चला कि सितम्बर के पहले हफ्ते में धर्म संसद शुरू होगा, लेकिन स्वामी जी यह जानकर परेशान हो गए कि यहां सिर्फ जानी-मानी संस्थाओं के प्रतिनिधियों को ही बोलने का मौका मिलेगा ।

इस समस्या से निपटने के लिए पहले उन्होंने मद्रास के एक मित्र से संपर्क किया परन्तु उन्हें निराशा हाथ लगी, फिर उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जॉन हेनरी राइट से संपर्क किया । प्रोफेसर राइट ने स्वामी जी को हार्वर्ड में भाषण देने के लिए आमंत्रित किया ।

स्वामी जी के हार्वर्ड में दिए भाषण से प्रोफेसर राइट इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने स्वामी जी से कहा कि आपसे परिचय पूछना वैसा ही है जैसे सूर्य से यह पूछा जाए कि वह किस अधिकार से आकाश में चमक रहा है ।

250+General Knowledge Quiz Questions and Answers in Hindi | Samanya Gyan

150+World GK, Most Important General Knowledge and Facts in Hindi

250+General Knowledge Questions and Answers for Competitive Exams in Hindi

इसके बाद प्रोफेसर राइट ने धर्म संसद के अध्यक्ष को पत्र लिखा कि इस महापुरुष को किसी संस्था की तरफ से नहीं बल्कि भारत के प्रतिनिधि के तौर पर धर्म संसद में शामिल होने की अनुमति देने की कृपा करें.

11 सितम्बर 1893 को शिकागो में धर्म संसद की शुरुआत हुई । धर्म संसद को संबोधित करने की जब Swami Vivekananda की बारी आई तो वे थोड़ा घबरा गए और उनके माथे पर पसीने की बूंदें चमक उठी । वहां उपस्थित लोगों को लगा कि भारत से आया यह युवा संन्यासी कुछ बोल नहीं पाएगा, तब अपने आप को संयमित करते हुए स्वामी जी ने अपने गुरु का ध्यान किया और इसके बाद जो उनके मुंह से निकला उसे धर्म संसद सुनती रह गई ।

इस भाषण में स्वामी जी के पहले बोल थे – अमेरिका के मेरे भाइयों और बहनों । स्वामी जी के प्रेम के इस मीठे बोल से सभी अचंभित रह गए और लगभग दो मिनट तक सभागार तालियों की गडगडाहट से गूंजता रहा, इसके बाद स्वामी जी ने अध्यात्म और ज्ञान से भरा ऐसा ओजस्वी भाषण दिया कि वह भाषण (Speech) इतिहास में स्वर्णाक्षरों में लिखा गया ।

शिकागो विश्व धर्म संसद में स्वामी विवेकानन्द द्वारा दिए गए भाषण में जहाँ वैदिक दर्शन का ज्ञान था वहीँ उसमें दुनिया में शांति से जीने का संदेश भी छुपा था, अपने भाषण (Speech) में स्वामी जी कट्टरतावाद और सांप्रदायिकता पर जमकर प्रहार किया था ।

इसके बाद जितने दिन तक धर्म संसद चलती रही स्वामी जी ने दुनिया को हिन्दू धर्म और भारत के बारे में वो ज्ञान दिया जिसने भारत की नई छवि बना दी । धर्म संसद के बाद स्वामी जी का न केवल अमेरिका में बल्कि दुनियाभर में आदर बढ़ गया । हाथ बांधे हुए उनकी तस्वीर ‘शिकागो पोज’ के नाम से प्रसिद्ध हो गया, ऐतिहासिक भाषण की उनकी इस तस्वीर को थॉमस हैरिसन नाम के फोटोग्राफर ने अपने कैमरे में उतारा था ।

300+Computer GK, Computer Awareness in Hindi

Top 100+Online GK Test, Latest GK, Samanya Gyan in Hindi

Top 400+GK Questions, General Knowledge Quiz in Hindi

धर्म संसद समाप्त होने के बाद अगले तीन वर्षों तक Swami Vivekananda अमेरिका और ब्रिटेन में वेदांत की शिक्षाओं का प्रचार-प्रसार करते रहे । 15 जनवरी 1897 को स्वामी जी अमेरिका से श्रीलंका पहुंचे जहाँ उनका जोरदार स्वागत हुआ ।

इसके बाद वे रामेश्वरम पहुंचे और रेल मार्ग से कोलकाता की तरफ प्रस्थान किया, पूरे रास्ते लोग उन्हें देखने और सुनने के लिए भारी संख्या में जमा होते रहे । लोगों को संबोधित करते हुए स्वामी जी ने विकास को केंद्र में रखा । वे समझ चुके थे कि अपने देश को अध्यात्म से इत्तर विकास की सख्त जरूरत है ।

कोलकाता वापस लौटने पर 1 मई 1897 को Swami Vivekananda ने रामकृष्ण मिशन की नींव रखी, Ramakrishna Mission का मुख्य उद्देश्य नए भारत के निर्माण के लिए अस्पताल, स्कूल, कॉलेज और साफ़-सफाई के क्षेत्र में कदम बढ़ाना था ।

अब तक स्वामी विवेकानन्द देश के नौजवानों के लिए आदर्श बन चुके थे, वर्ष 1898 में स्वामी जी ने बेलूर मठ की स्थापना कर भारतीय जीवन दर्शन को एक नया आयाम प्रदान किया ।

स्वामी विवेकानन्द ने भारत में अपनी यात्राओं का क्रम जारी रखा । वहीँ दूसरी ओर एक बार फिर वे अपनी दूसरी विदेश यात्रा पर 20 जून 1899 को अमेरिका के लिए रवाना हुए, स्वामी जी ने कैलिफोर्निया, संफ्रान्सिस्को, अल्मेडा आदि स्थानों पर आध्यात्मिक केंद्र खोले और अपने गुरुभाई स्वामी तुर्यानंद को वहां का प्रभार सौंपा ।

Computer GK(General Knowledge), Competitive Exams, Fundamental & Awareness in Hindi

Top 400+Economics Important Question in Hindi

600+Indian Political Science Question and Answer in Hindi

जुलाई 1900 में स्वामी जी पेरिस गए जहाँ वह ‘कांग्रेस ऑफ दी हिस्ट्री रीलिजंस’ में शामिल हुए । लगभग तीन महीने पेरिस में रहकर विएना, कुस्तुन्तुनिया, एथेंस और मिस्त्र की यात्रा करते हुए वे दिसम्बर में भारत लौटे ।

भारत में भी उनकी यात्रा का क्रम निरंतर जारी रहा, 4 जुलाई 1902 को अल्पायु यानि केवल 39 वर्ष की अवस्था में स्वामी जी ने बेलूर मठ में अपना देह त्याग दिया ।

मानवता और राष्ट्र को स्वामी विवेकानन्द का योगदान (Swami Vivekananda’s Contribution to Humanity and Nation)
अपने संक्षिप्त जीवनकाल में Swami Vivekananda ने भारत के युवाओं में जिस आत्मविश्वास का संचार किया उसे आने वाली अनेक पीढ़ियाँ याद रखेंगी और मार्गदर्शन पाती रहेंगी ।

उनका कहना था – ‘उठो, जागो, स्वयं जागकर औरों को जगाओ. अपने मानव जन्म को सफल (Successful) बनाओ और तब तक नहीं रूको जब तक लक्ष्य (Goal) प्राप्त न कर लो’ ।

वास्तव में, स्वामी विवेकानन्द केवल एक संत ही नहीं, एक महान दार्शनिक (Philosopher), एक महान देशभक्त, विचारक और लेखक थे । वह धार्मिक आडम्बरों और रुढियों के मुखर विरोधी थे ।

200+Average Formula, Weighted, Mathematical, Solutions & Quiz in Hindi

70+Area Math Gk(General Knowledge), Difinition, Triangle & Quiz in Hindi

40+Age Math, Quiz, General Knowledge, Competitive Exams & Trciks in Hindi

उन्होंने धर्म को मनुष्य की सेवा के केंद्र में रखकर ही आध्यात्मिक चिंतन किया था । देश की और यहां के लोगों की मार्मिक दशा को देखकर व्यथित होते हुए स्वामी जी ने एक बार विद्रोही बयान तक दे डाला था कि इस देश के तैंतीस करोड़ भूखे, दरिद्र और कुपोषण के शिकार लोगों को देवी-देवताओं की तरह मंदिरों में स्थापित कर दिया जाए और मंदिरों से देवी-देवताओं की मूर्तियों को हटा दिया जाए ।

Swami Vivekananda का मानना था कि हिन्दू धर्म के सर्वश्रेष्ठ चिंतकों के विचारों का निचोड़ पूरी दुनिया के लिए अब भी ईर्ष्या का विषय है। स्वामी जी दुनिया के हर कोने के लोगों की जरूरतों को समझ चुके थे, यही कारण था कि वह जहाँ अमेरिका और यूरोप में अध्यात्म की बात करते थे तो भारत में विकास की बात करते थे ।

वे जानते थे कि विदेशों में भौतिक विकास तो है और उसकी भारत को जरूरत है, लेकिन वह उस विकास और समृद्धि को मांग कर नहीं बल्कि अपने बलबूते प्राप्त करने के हिमायती थे ।

स्वामी जी का मानना था कि हमारे पास पश्चिम के देशों से ज्यादा बहुत कुछ है और जो हम उन्हें दे सकते हैं, परन्तु इसके लिए पहले हमें अपने संसाधनों को विकसित करना होगा ।

इस विकास के क्रम में स्वामी जी देश के युवाओं का बहुत बड़ा योगदान चाहते थे । इसलिए उन्होंने देश में मैकाले शिक्षा पद्धति का विरोध किया था, वे कहते थे कि इस शिक्षा पद्धति का उद्देश्य केवल बाबुओं की संख्या बढ़ाना है ।

Swami Vivekananda देश में ऐसी शिक्षा पद्धति के हिमायती थे जिससे देश के बालकों और युवाओं का सर्वांगीण विकास हो सके । वे सैद्धांतिक शिक्षा के बदले व्यवहारिक शिक्षा को उपयोगी मानते थे, वे व्यावहारिक शिक्षा को चरित्र निर्माण के साथ-साथ आत्मविश्वास (Self-confidence) का सबसे बड़ा स्रोत मानते थे ।

अभी कुछ दिनों पूर्व हमारे प्रधानमंत्री Narendra Modi ने कहा था कि अमेरिका में 11 सितम्बर की तारीख दो प्रमुख घटनाओं के लिए हमेशा याद किया जाएगा । उनका कहना था कि इस तारीख को अमेरिका में दो सदी में दो विस्फोट हुए थे, एक विस्फोट मानवता के कल्याण के लिए था तो दूसरा विस्फोट इसके ठीक विपरीत मानवता को कलंकित करने के लिए ।

150+Quiz, Calculate Percentage, Formula, Questions, Discount Rate & Pie Math

200+Profit and Loss Formula, Problems, Percentage, Statement & Mathematics Question

120+Discount Math, Formula, Questions, Calculator & Quiz in Hindi

नरेन्द्र मोदी का स्पष्ट संकेत 11 सितम्बर 1893 को Swami Vivekananda को Chicago में दिया गया विश्व प्रसिद्ध भाषण (World Famous Speech) था तो वहीँ दूसरी ओर 11 सितम्बर 2001 को न्यूयार्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुआ आतंकवादी हमला था ।

स्पष्ट है, स्वामी विवेकानन्द ने अपने चिंतन और दर्शन से देश और दुनिया को वह सबकुछ दिया जिसकी सार्थकता आज भी मानव कल्याण के लिए जीवंत है । स्वामी जी देश के युवाओं के लिए हमेशा से प्रेरणास्त्रोत (Inspiration) रहे हैं और आगे भी आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणास्त्रोत रहेंगे, हम अगर उनके बताए मार्ग पर चलते रहे तो भारत को विश्व गुरु बनने से दुनिया की कोई भी ताकत रोक नहीं सकती ।

Swami Vivekananda Inspiring Thoughts in Hindi

  • 1: Arise, awake and stop not till the goal is reached.
  • उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाये.
  • 2: Come up, O lions, and shake off the delusion that you are sheep; you are souls immortal, spirits free, blessed and eternal; ye are not matter, ye are not bodies; matter is your servant, not you the servant of matter.
  • उठो मेरे शेरो, इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो, तुम एक अमर आत्मा हो, स्वच्छंद जीव हो, धन्य हो, सनातन हो, तुम तत्व नहीं हो, ना ही शरीर हो, तत्व तुम्हारा सेवक है तुम तत्व के सेवक नहीं हो.
  • 3: All the powers in the universe are already ours. It is we who have put our hands before our eyes and cry that it is dark.
  • ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं. वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर हाँथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है!
  • 4: As different streams having different sources all mingle their waters in the sea, so different tendencies, various though they appear, crooked or straight, all lead to God.
  • जिस तरह से विभिन्न स्रोतों से उत्पन्न धाराएँ अपना जल समुद्र में मिला देती हैं, उसी प्रकार मनुष्य द्वारा चुना हर मार्ग, चाहे अच्छा हो या बुरा भगवान तक जाता है.
  • 5: Condemn none: if you can stretch out a helping hand, do so. If you cannot, fold your hands, bless your brothers, and let them go their own way.
  • किसी की निंदा ना करें: अगर आप मदद के लिए हाथ बढ़ा सकते हैं, तो ज़रुर बढाएं. अगर नहीं बढ़ा सकते, तो अपने हाथ जोड़िये, अपने भाइयों को आशीर्वाद दीजिये, और उन्हें उनके मार्ग पे जाने दीजिये.
  • 6: Never think there is anything impossible for the soul. It is the greatest heresy to think so. If there is sin, this is the only sin; to say that you are weak, or others are weak.
  • कभी मत सोचिये कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है. ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है. अगर कोई पाप है, तो वो यही है; ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं.
  • 7: If money help a man to do good to others, it is of some value; but if not, it is simply a mass of evil, and the sooner it is got rid of, the better.
  • अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा, ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है, और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है.
  • 8: In one word, this ideal is that you are divine.
  • एक शब्द में, यह आदर्श है कि तुम परमात्मा हो.
  • 9: That man has reached immortality who is disturbed by nothing material.
  • उस व्यक्ति ने अमरत्व प्राप्त कर लिया है, जो किसी सांसारिक वस्तु से व्याकुल नहीं होता.
  • 10: We are what our thoughts have made us; so take care about what you think. Words are secondary. Thoughts live; they travel far.
  • हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है, इसलिए इस बात का धयान रखिये कि आप क्या सोचते हैं. शब्द गौण हैं. विचार रहते हैं, वे दूर तक यात्रा करते हैं.
  • 11: You cannot believe in God until you believe in yourself.
  • जब तक आप खुद पे विश्वास नहीं करते तब तक आप भागवान पे विश्वास नहीं कर सकते.
  • 12: Truth can be stated in a thousand different ways, yet each one can be true.
  • सत्य को हज़ार तरीकों से बताया जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य ही होगा.
  • 13: The world is the great gymnasium where we come to make ourselves strong.
  • विश्व एक व्यायामशाला है जहाँ हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं.
  • 14: All differences in this world are of degree, and not of kind, because oneness is the secret of everything.
  • इस दुनिया में सभी भेद-भाव किसी स्तर के हैं, ना कि प्रकार के, क्योंकि एकता ही सभी चीजों का रहस्य है.
  • 15: The more we come out and do good to others, the more our hearts will be purified, and God will be in them.
  • हम जितना ज्यादा बाहर जायें और दूसरों का भला करें, हमारा ह्रदय उतना ही शुद्ध होगा, और परमात्मा उसमे बसेंगे.
  • स्वामी विवेकानंद के उर्जा से भर देने वाले अनमोल विचार YOUTUBE पे सुनें
  • 16: External nature is only internal nature writ large.
    बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप है.
  • 17: GOD is to be worshipped as the one beloved, dearer than everything in this and next life.
  • भगवान् की एक परम प्रिय के रूप में पूजा की जानी चाहिए, इस या अगले जीवन की सभी चीजों से बढ़कर.
  • 18: If faith in ourselves had been more extensively taught and practiced, I am sure a very large portion of the evils and miseries that we have would have vanished.
  • यदि स्वयं में विश्वास करना और अधिक विस्तार से पढाया और अभ्यास कराया गया होता, तो मुझे यकीन है कि बुराइयों और दुःख का एक बहुत बड़ा हिस्सा गायब हो गया होता.
  • 19: Our duty is to encourage every one in his struggle to live up to his own highest idea, and strive at the same time to make the ideal as near as possible to the Truth.
  • हमारा कर्तव्य है कि हम हर किसी को उसका उच्चतम आदर्श जीवन जीने के संघर्ष में प्रोत्साहन करें, और साथ ही साथ उस आदर्श को सत्य के जितना निकट हो सके लाने का प्रयास करें.
  • 20: Take up one idea. Make that one idea your life – think of it, dream of it, live on that idea. Let the brain, muscles, nerves, every part of your body, be full of that idea, and just leave every other idea alone. This is the way to success.
  • एक विचार लो. उस विचार को अपना जीवन बना लो – उसके बारे में सोचो उसके सपने देखो, उस विचार को जियो. अपने मस्तिष्क, मांसपेशियों, नसों, शरीर के हर हिस्से को उस विचार में डूब जाने दो, और बाकी सभी विचार को किनारे रख दो. यही सफल होने का तरीका है.
  • 21: The moment I have realized God sitting in the temple of every human body, the moment I stand in reverence before every human being and see God in him – that moment I am free from bondage, everything that binds vanishes, and I am free.
  • जिस क्षण मैंने यह जान लिया कि भगवान हर एक मानव शरीर रुपी मंदिर में विराजमान हैं, जिस क्षण मैं हर व्यक्ति के सामने श्रद्धा से खड़ा हो गया और उसके भीतर भगवान को देखने लगा – उसी क्षण मैं बन्धनों से मुक्त हूँ, हर वो चीज जो बांधती है नष्ट हो गयी, और मैं स्वतंत्र हूँ.
  • 22: The Vedanta recognizes no sin it only recognizes error. And the greatest error, says the Vedanta is to say that you are weak, that you are a sinner, a miserable creature, and that you have no power and you cannot do this and that.
  • वेदान्त कोई पाप नहीं जानता, वो केवल त्रुटी जानता है. और वेदान्त कहता है कि सबसे बड़ी त्रुटी यह कहना है कि तुम कमजोर हो, तुम पापी हो, एक तुच्छ प्राणी हो, और तुम्हारे पास कोई शक्ति नहीं है और तुम ये-वो नहीं कर सकते.
  • 23: When an idea exclusively occupies the mind, it is transformed into an actual physical or mental state.
  • जब कोई विचार अनन्य रूप से मस्तिष्क पर अधिकार कर लेता है तब वह वास्तविक भौतिक या मानसिक अवस्था में परिवर्तित हो जाता है.
  • 24: Where can we go to find God if we cannot see Him in our own hearts and in every living being.
  • भला हम भगवान को खोजने कहाँ जा सकते हैं अगर उसे अपने ह्रदय और हर एक जीवित प्राणी में नहीं देख सकते.
  • 25: You have to grow from the inside out. None can teach you, none can make you spiritual. There is no other teacher but your own soul.
  • तुम्हे अन्दर से बाहर की तरफ विकसित होना है. कोई तुम्हे पढ़ा नहीं सकता, कोई तुम्हे आध्यात्मिक नहीं बना सकता. तुम्हारी आत्मा के आलावा कोई और गुरु नहीं है.
  • Swami Vivekananda s in Hindi
    26: You will be nearer to heaven through football than through the study of the Gita.
  • तुम फ़ुटबाल के जरिये स्वर्ग के ज्यादा निकट होगे बजाये गीता का अध्ययन करने के.
  • 27: In a conflict between the heart and the brain, follow your heart.
  • दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो.
  • 28: In a day, when you don’t come across any problems – you can be sure that you are travelling in a wrong path.
  • किसी दिन, जब आपके सामने कोई समस्या ना आये – आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आप गलत मार्ग पर चल रहे हैं.
  • 29: Dare to be free, dare to go as far as your thought leads, and dare to carry that out in your life.
  • स्वतंत्र होने का साहस करो. जहाँ तक तुम्हारे विचार जाते हैं वहां तक जाने का साहस करो, और उन्हें अपने जीवन में उतारने का साहस करो.
  • 30: Be not Afraid of anything. You will do Marvelous work. it is Fearlessness that brings Heaven even in a moment.
  • किसी चीज से डरो मत. तुम अद्भुत काम करोगे. यह निर्भयता ही है जो क्षण भर में परम आनंद लाती है.
  • 31: All love is expansion, all selfishness is contraction. Love is therefore the only law of life. He who loves lives, he who is selfish is dying. Therefore love for love’s sake, because it is the only law of life, just as you breathe to live.
  • प्रेम विस्तार है, स्वार्थ संकुचन है. इसलिए प्रेम जीवन का सिद्धांत है. वह जो प्रेम करता है जीता है, वह जो स्वार्थी है मर रहा है. इसलिए प्रेम के लिए प्रेम करो, क्योंकि जीने का यही एक मात्र सिद्धांत है, वैसे ही जैसे कि तुम जीने के लिए सांस लेते हो.
  • 32: The greatest religion is to be true to your own nature. Have faith in yourselves.
  • सबसे बड़ा धर्म है अपने स्वभाव के प्रति सच्चे होना. स्वयं पर विश्वास करो.
  • 33: The great secret of true success, of true happiness, is this: the man or woman who asks for no return, the perfectly unselfish person, is the most successful.
  • सच्ची सफलता और आनंद का सबसे बड़ा रहस्य यह है: वह पुरुष या स्त्री जो बदले में कुछ नहीं मांगता, पूर्ण रूप से निःस्वार्थ व्यक्ति, सबसे सफल है.
  • 34: The fire that warms us can also consume us; it is not the fault of the fire.
  • जो अग्नि हमें गर्मी देती है, हमें नष्ट भी कर सकती है, यह अग्नि का दोष नहीं है.
  • 35: They alone live, who live for others.”
  • बस वही जीते हैं,जो दूसरों के लिए जीते हैं.
  • 36: Strength is Life, Weakness is Death.Expansion is Life, Contraction is Death.Love is Life, Hatred is Death.
  • शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु है. विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु है. प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु है.
  • 37: We reap what we sow. We are the makers of our own fate.The wind is blowing; those vessels whose sails are unfurled catch it, and go forward on their way, but those which have their sails furled do not catch the wind. Is that the fault of the wind?……. We make our own destiny.
  • हम जो बोते हैं वो काटते हैं. हम स्वयं अपने भाग्य के विधाता हैं. हवा बह रही है, वो जहाज जिनके पाल खुले हैं, इससे टकराते हैं, और अपनी दिशा में आगे बढ़ते हैं, पर जिनके पाल बंधे हैं हवा को नहीं पकड़ पाते. क्या यह हवा की गलती है ?…..हम खुद अपना भाग्य बनाते हैं.
  • 38: Neither seek nor avoid, take what comes.
  • ना खोजो ना बचो, जो आता है ले लो.
  • 39: Anything that makes weak – physically, intellectually and spiritually, reject it as poison.
  • शारीरिक, बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से जो कुछ भी कमजोर बनता है -, उसे ज़हर की तरह त्याग दो.
  • 40: Do one thing at a Time, and while doing it put your whole Soul into it to the exclusion of all else.
  • एक समय में एक काम करो, और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमे डाल दो और बाकी सब कुछ भूल जाओ.
  • 41: Ask nothing; want nothing in return. Give what you have to give; it will come back to you, but do not think of that now.
  • कुछ मत पूछो, बदले में कुछ मत मांगो. जो देना है वो दो, वो तुम तक वापस आएगा, पर उसके बारे में अभी मत सोचो.
  • 42: Whatever you think that you will be.If you think yourself weak,weak you will be; if you think yourself strong,you will be.
  • जो तुम सोचते हो वो हो जाओगे. यदि तुम खुद को कमजोर सोचते हो, तुम कमजोर हो जाओगे, अगर खुद को ताकतवर सोचते हो, तुम ताकतवर हो जाओगे.
  • 43: Serve man Serve God.
  • मनुष्य की सेवा करो. भगवान की सेवा करो.
  • 44: The powers of the mind are like the rays of the sun when they are concentrated they illumine.
  • मस्तिष्क की शक्तियां सूर्य की किरणों के समान हैं. जब वो केन्द्रित होती हैं, चमक उठती हैं.
  • 45: Desire, ignorance, and inequality—this is the trinity of bondage.
  • आकांक्षा, अज्ञानता, और असमानता – यह बंधन की त्रिमूर्तियां हैं.
  • 46: This attachment of Love to God is indeed one that does not bind the soul but effectively breaks all its bondages.
  • यह भगवान से प्रेम का बंधन वास्तव में ऐसा है जो आत्मा को बांधता नहीं है बल्कि प्रभावी ढंग से उसके सारे बंधन तोड़ देता है.
  • 47: A few heart-whole, sincere, and energetic men and women can do more in a year than a mob in a century.
  • कुछ सच्चे, इमानदार और उर्जावान पुरुष और महिलाएं, जितना कोई भीड़ एक सदी में कर सकती है उससे अधिक एक वर्ष में कर सकते हैं.
  • 48: Bless people when they revile you. Think how much good they are doing by helping to stamp out the false ego.
  • जब लोग तुम्हे गाली दें तो तुम उन्हें आशीर्वाद दो. सोचो, तुम्हारे झूठे दंभ को बाहर निकालकर वो तुम्हारी कितनी मदद कर रहे हैं.
  • 49: The greatest sin is to think yourself weak.
  • खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है.
  • 50: Blessed are they whose bodies get destroyed in the service of others.
  • धन्य हैं वो लोग जिनके शरीर दूसरों की सेवा करने में नष्ट हो जाते हैं.
  • 51: Shri Ramakrishna used to say, “As Long as I Live, so long do I learn”. That man or that society which has nothing to learn is already in the jaws of death.
  • श्री रामकृष्ण कहा करते थे,” जब तक मैं जीवित हूँ, तब तक मैं सीखता हूँ ”. वह व्यक्ति या वह समाज जिसके पास सीखने को कुछ नहीं है वह पहले से ही मौत के जबड़े में है.

Top 550 Math GK(General Knowledge),Competitive Exams, Formula, Quiz, Questions & Answer

150+Ratio Math Quiz, Proportion, Formulas, Question & Answer for Bank in Hindi

Reasoning Quiz, GK, Test, Aptitude, Logical & Math Formula in Hindi

Spread the love

You May Like