हार्ड डिस्क (Hard Disk) क्या है और कैसे काम करती है? पूरी जानकारी

Spread the love

आज का क्लास है हार्ड डिस्क (Hard Disk) क्या है आज के योग में टेक्निकल चीजों के बारे में जितना बातें की जाये काम है। बहुत अच्छी ये तकनिकी सुबिधाये है जो पुरे संसार को कनेक्ट कर के रखती है ये संसार को वो हर सुबिधाये देती है जैसे कोई मशीन हो। जी हां ये सच है की ये एक तरह की मशीन ही होती है जो हमारे ब्रेन की तरह कार्य  करता है। और आज के टाइम में समय की बहुत अधिक वैलु है। हार्डडिस्क ड्राइव के नाम अलग अलग होते है जैसे हार्डडिस्क ड्राइव (Hard Disk)  फिश हार्डडिस्क ड्राइव शाता हार्डडिस्क ड्राइव।

दुनिया में कितना सारा डाटा होता है किउ न वो छोटी से दुकान हो या बहुत बड़ा शोरूम या दुनिया का कितना बड़ा बिज़नेस में हो या छूटा ब्यापारी सबके पास डाटा तो होता है ही। अब जाने की हार्डडिस्क तो बहुत छोटी सी होती है तो डाटा कैसे कनेक्ट और स्टोर कर के रखती है अपने पास। कोई भी छोटा बड़ा डीवीएस किउ न हो सबको जरुरत ये होती है की उनका डाटा हमेशा उस छोटी या बड़ी डीवीएस में स्टोर कर के रखे।

जब आदमी को जरुरत हो तो वो अपना डाटा का रिकवर कर पाए या उसको दुबारा से रिस्टोर कर पाए टाइम पर झट से उसको डाटा मिल जाये लोग इतनी सी उम्मीद रखते है। मग्नेटिसम एक ऐसी चीज है जो आज के टाइम में हार्ड ड्राइव्स में काम आती है। हार्ड ड्राइव्स (Hard Disk) ही एक ऐसी चीज है जो लम्बे आरसे से हम इस्तेमाल करते हुए आ रहे है।आज भी नॉर्मल कंप्यूटर लेपटॉप यहां तक की टीवी में भी लगा होता है। और ये हमेशा आने वाले टाइम में भी इस्तेमाल करते रहेंगे और इसका उपयोग ख़तम नहीं होता। इसका उपयोग करने का रारिका भी बहुत अलग होता है और बहुत ही आसान होता है।

हार्ड डिस्क क्या है? (Hard Disk Kya Hai)

हार्ड डिस्क (Hard Disk) कंप्यूटर की एक छोटी सी मेमोरी होती है। कुछ लोग इसको उनटेरनल मेमोरी बोलते है कुछ लोग इसको डिस्क बोलते है कुछ लोग उसको मेमोरी  के नाम से जानते है। जो मोबाइल फ़ोन में भी उसे किया जाता है ये फ़ोन का डाटा भी स्टोर कर के लाइफ टाइम के लिए सेफ रखती है। ये तो फ़ोन की मेमोरी होती है,

अब जानते है जो कंप्यूटर में जो मेमोरी होती उसके नाम क्या होते है। जो कंप्यूटर या लेपटॉप में उसे होता है उसको हार्डडिस्क और मेमोरी कहते है जिसका नाम हार्डडिस्क (Hard Disk)  होता है। इसको ड्राइव हार्डडिस्क SD कार्ड भी बोलते है और एक नाम है इसका। अब बात आती है की इसको हार्डडिस्क का नाम किउ दिया गया है इसकी कपैसिटी जो है बहुत हाई है। ये बड़े से बड़ा डाटा स्टोर कर सकता है। इसका साइज भी अलग होता है ये कंप्यूटर लेपटॉप में लगाया जाता है।

कंप्यूटर में भी हार्डडिस्क (Hard Disk)  का इस्तेमाल होता है नेटवर्क में भी होता है फ़ोन में मेमोरी होती है इस्तेमाल। ये कंप्यूटर में इस लिए लगाया जाता है की एक हार्ड डिस्क कंप्यूटर में बड़े बड़े सॉफ्टवेयर इनस्टॉल कर सकता है इसके अंदर बहुत कैपेसिटी होती है। मन लो आप ने नई कप्यूटर लिया और वो वर्क कैसे करेगा और वो सॉफ्टवेयर कैसे डौन्लोड करेगा। इसलिए हार्डडिस्क(Hard Disk)  जो है वो सॉफ्टवेयर इनस्टॉल करने के लिए हार्ड डिस्क का होना जरुरी होता है बहुत।अगर कंप्यूटर में हार्डडिस्क नहीं होता है तो वो कंप्यूटर चालू नहीं होगा। बिना हार्डडिस्क के चालू नहीं हो सकता कंप्यूटर कोई भी काम बिना इसके नहीं हो पायेगा। अगर हो भी गया तो।

हार्ड ड्राइव कैसे काम करते हैं?

हार्ड डिस्क कैसे काम करती है ये आप कंप्यूटर में इस्तेमाल करते है। मैन जो हार्डडिस्क का इस्तेमाल होता है ये डाटा को स्टोर करने के लिए सेव रखने के लिए ताकि ब्यक्ति कभी भी अपने स्टोर किया डाटा किसी भी टाइम निकल ले। में आपको बताउंगी की ये डाटा को कैसे स्टोर करता है और मूव उप कैसे करता है।

आप जब भी अपने कंप्यूटर में आप काम करते हो उस टाइम के बाद जब आप अपने कंप्यूटर को बंद कर देते हो उसी टाइम आपका सब डाटा सेव हो जाता है लम्बे टाइम के लिए। और ये लम्बे टाइम तक आपके कंप्यूटर में हमेशा सेव रहिता है।जब तक आप खुद उसको डिलीट करना न चाहो तब तक वो डिलीट नहीं होती खुद से।

ये में आपको बताउंगी की हार्डडिस्क काम कैसे करता है।  और ये कितना काम करता है।ये जो हार्डडिस्क है ये एक IBM के द्वारा रीलोड हुआ था। स्टोर यूनिट के नाम से 4 सप्तमेरबेर 1956 में अनाउंस किया गया था। इसकी जानकारी जो भी दी गई थी वो IBM के द्वारा की गई थी।जो एक हार्डवेयर कंपनी है कंप्यूटर की हार्डवेयर के जो पार्ट्स होते है इनका जन्मदाता मतलब इनके जितने भी पार्ट्स होते है ये सब इस के द्वारा बनाया जाता है।

Hard Disk के प्रकार ?

Hard Disk एक डाटा के लिए स्टोरेज डिवाइस है हम इसमें अपने डाटा को स्टोरेज कर सकते है। हार्डडिस्क हमेशा के लिए डाटा को संभालती है। इसका निर्माड IBM द्वारा किया गया था। इसकी स्टोर करने की सकती 5 MB की थी इसका बजन 250 KG था। कुछ समय बाद इसमें काफी चंगीस किया जिसका स्वरुप आधुनिक हार्डडिस्क है।

इसमें एक गोले जैसी डिस्क होती जिसमे डाटा सारा सेव होता है ये बहुत तेजी से घूमती है जिसमे जिसकी स्पीड हम पैर मिनट में नापते है। हार्डडिस्क २ प्रकार का होता है। एक तो है PATA ड्राइव दूसरा है SATA ड्राइव। दोनों को आइए पहिचानते कैसे है एक का तो जो PATA में जिधर कनेक्टर दिया होता है उसकी पिन दूर दूर दी होती है।

जबकि SATA  में पास पास पिन होता है। SATA और PATA में आप आसानी से पहचान कर सकते है। तीसरा एक प्लेट की तरह पार्ट होता है। जो हार्डडिस्क के अंदर डिस्क रहता है। इस लिए हार्डडिस्क इसको कहा जाता है की इसमें डिस्क  लगातार घूमते रहती है। जितना RBM  ज्यादा होगा उतना ही हार्डडिस्क का स्टोरेज अधिक पाया जायेगा। PATA ड्राइव में छोड़ा वाला केबल लगता है और SATA  ड्राइव में पतला वाला रेड कलर का केबल लगाया जाता है ।

SSD और HDD में क्या फर्क है ?

SSD और HDD में क्या क्या डिफरेंस होता है ये में आपको बताउंगी। काफी लोगो को बिलकुल जानकरी नहीं है बिलकुल भी। हार्ड डिस्क ड्राइव सुनने में ही पता चल जाता है। किया चीज है जैसा की इसके नाम से अनुभब हो जायेगा। सॉलिड स्टेड ड्राइव इसके भी नाम से पहचान लग जाएगी की केसा ड्राइव होता है ये। हार्डडिस्क के अंदर एक CD सी होती है जो गोल गोल तवा जैसी होती है।ऐसी के ऊपर डाटा सेव होता है जब वो घूमता है।ऐसी के ऊपर सारा डाटा सेव होता है।

SSD में जो स्पीड जो होती है इस लिए इसकी स्पीड ज्यादा होती है। वो HDD में स्पीड कम होती है। HDD में घूमने वाली जो सुई है वो धीरे धीरे घूमती है पर SSD में तेज घूमती है इसमें ये डिफरेंस होती है। अगर वो गोल बाली CD अगर टूट जाएगी तो सारा डाटा खत्म हो जाएगी किउकी एक वो CD  है जो घूमती रहती है और डाटा स्टोर करती है अगर वो ही नहीं रहेगी तो डाटा कैसे रहेगा।


Spread the love