BDO क्या है? BDO ऑफिसर कैसे बने पूरी जानकारी

Spread the love

BDO Officer Kaise Bane?

BDO का पूरा नाम है –Block Development Officer जिसे हिंदी में खंड विकास अधिकारी कहा जाता है। हमारे देश में जितने  और केंद्रशासित प्रदेश हैं उनके अपने जिले हैं और जिलों के अपने ब्लाक है।  हर ब्लाक के कार्यो का संपादन के लिए BDO नियुक्त किया जाता है।  इस प्रकार सरकार हर ब्लॉक के लिया एक अधिकारी की नियुक्ति करती है जो सम्बंधित ब्लॉक की योजनाओं का कार्य सचालन करता है।

योग्यताये

एक BDO बनने के लिए आपको ग्रेजुएट होना अनिवार्य है तभी आप लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षा के लिए आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं।

आयु

BDO के आवेदन के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष और अधिकतम आयु सीमा 40 वर्ष निश्चित की गई है। इसके अंतर्गत obc उम्मीदवार के लिए 03 साल और sc/st  उम्मीदवारो  के लिए 05 साल की छूट दी गई है।

वेतन

BDO का वेतन 9300 रुपए से 34800 के करीब हो सकता है , और हर राज्य और क्षेत्र के आधार पर इसका वेतन अलग होगा , इसके साथ-साथ इनके वेतन में भी सरकारी कर्मचारियों के वेतन के तरह बढ़ोतरी होती रहती है।

कार्य

  • BDO को जिस क्षेत्र के लिए नियुक्त किया जाता है उसे उस क्षेत्र में चल रही सभी योजनाओं का लेखा -जोखा देखना पड़ता है और समय -समय पर उनकी जाँच पड़ताल भी करनी पड़ती है।
  • BDO अपने क्षेत्र से सम्बंधित गावों के प्रधान , जिला परिषद् , MLA , CEO और विभिन्न सरकारी विभागों के निर्देश अनुसार कार्य करता है।
  • एक BDO अपने ब्लॉक के आधार पर ग्रामीण प्रदेश में चल रही सभी योजनाओं वृद्धावस्था पेंशन , निर्धन आवास योजना , कृषि योजनाओं के सफलतापूर्वक लागू करने के लिए और परिपूर्ण करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।
  • BDO अपने क्षेत्र में विभन्न सरकारी विभागों द्वारा चल रही नीतियों के Execution में मदद करता है।
  • यदि आपके प्रदेश में कोई समस्या है तो आप BDO को एप्लीकेशन लिख कर आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं और BDO उस आवेदन के आधार पर संबंधित समस्या का निवारण करने के लिए कदम उठाता है।

BDO कैसे बने

BDO बनने के लिए आपको एक लिखित और एक साक्षात्कार (Interview ) की परीक्षा देनी पड़ती है। लिखित परीक्षा उत्तीर्ण होने के बाद ही आपको साक्षत्कार के लिए एप्लीकेशन भेजा जाता है , एप्लीकेशन पर अंकित दिनांक को interview होता है , यदि आप साक्षात्कार लेने वाले के सब सवालों का जवाब देकर interview क्लियर कर लेते हैं तो आपको BDO के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है। BDO के exam के लिए तीन अलग अलग परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं जिनका वर्ण नीचे किया गया है:-

Preliminary Examination

इसके अंतर्गत लोक सेवा कमिशन द्वारा आयोजित लिखित परीक्षा को पास करना अनिवार्य होता है। इसे प्राम्भिक परीक्षा भी  कहते हैं।  इसमें BDO पद के लिए आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं। इस परीक्षा में दो पेपर होते हैं , दोनों परीक्षाओं का समय अंतराल 02 घंटो का होता है , इस प्रकार लिखित परीक्षा के लिए 04 घंटो का समय अंतराल निश्चित है।  इन दोनों परीक्षाओं में 33% अंको से उत्तीर्ण होना आवश्यक है , दोनों पपेरों में 200 अंको के प्रश्न आते हैं , जिनके सभी प्रश्नो के उतर आपको देने होते हैं।

Main Exam

Preliminary Examination को पास करने के बाद main exam देना पड़ता है। इस परीक्षा को मुख्य परीक्षा भी कहा जाता है।  इसमें कैंडिडेट से 04 प्रश्न पूछे जाते है।  इसमें 150 अंक के दो प्रश्न और 200 अंको के अन्य दो प्रश्न पूछे जाते है।

 

पेपर   विषय प्रश्न  अंक
पेपर-1 जरनल स्टडीज 150 प्रश्न

 

150
पेपर-2  

सीएसएटी

 

100 प्रश्न

100

पेपर-1 के लिए पाठ्यक्रम :- मुख्यतः पेपर-1 में निम्न विषयो से सम्बंधित प्रश्न आते हैं। जैसे :-

  • अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय घटनाओं के बारे में।
  • भारतीय इतिहास से सम्बंधित प्रश्न।
  • भारतीय भूगोल , सामजिक विषयो से सम्बंधित प्रश्न।
  • भारत के राजनीतिक प्रशासन , लोकतंत्र , नीतियों से सम्बंधित प्रश्न।
  • सामान्य ज्ञान से सम्बंधित प्रश्न।

पेपर-2 के लिए पाठ्यक्रम :- पेपर-2 में निम्न विषयों में से प्रश्न पूछे जा सकते हैं :-

  • कक्षा दस तक के गणित सम्बन्धी प्रश्न।
  • निर्णय लेने और समस्या सुलझाने सम्बन्धी प्रश्न।
  • संचार कौशल सहित परस्परिक कौशल
  • कक्षा 10 तक की हिंदी साहित्य सम्बन्धी प्रश्न।
  • भारतीय कृषि , व्यापार से सबंधित प्रश्न।
  • भारतीय जनसंख्या , पर्यावरण सम्बन्धी प्रश्न।
  • प्राकृतिक संसाधनों से सम्बंधित प्रश्न।

साक्षात्कार (Interview )

ऊपर वर्णित दोनों परीक्षाओं को उत्तीर्ण करने के बाद व्यक्ति को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।  इसमें candidate से कई प्रकार के सवाल पूछे जाते हैं।  इस interview को क्लियर करने के बाद लोक सेवा आयोग द्वारा candidates की एक मेरिट लिस्ट तैयार की जाती है , उस Merit लिस्ट के आधार पर ही BDO की नियुक्ति होती है। जब कैंडिडेट दोनों परीक्षाओं में उत्तीर्ण हो जाता है तो साक्षत्कार होता है , जिसमे अनेक प्रकर के प्रश्न पूछे जाते है और व्यक्ति के आत्मविश्वास को भी परखा जाता है।

उनके समक्ष परिस्थितयों को जाहिर करके उन्से उपाय पूछा जाता है जिसे उनकी मानसिकता को परखा जाता है और साथ जी तर्कशक्ति और निर्णय लेने की क्षमता को भी परखा जाता है।  जैसे हो सकता है कि कैंडिडेट से पूछा जाये कि आपके प्रदेश में वृद्धों को पेंशन समय पर नहीं मिल रही तो आप उस परिस्थति में क्या करेंगे।  इस प्रकार प्रश्न पूछकर आपके मानसिक पटल की परीक्षा कैंडिडेट की परीक्षा ली जाती है।  यदि आप interview में सेल्क्ट हो जाते हैं तो आपको BDO पद के लिए नियुक्त कर लिया जाता है।

BDO की परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए परीक्षा में जनरल नॉलेज , करंट अफेयर्स पर अपडेट रहे , अपने अंदर कॉन्फिडेंस बनाये रखे , परीक्षा से सम्बंधित किसी भी किताब का अध्ययन करते समय मुख्य बातो को हाईलाइट करें ताकि दुबारा पुस्तक को शरू से आरम्भ पढ़ने की बजाय मुख्य बातों पर ध्यान रहे।


Spread the love